Friday, February 18, 2011

18 feb 2011 daily evening newspaper truthway times

मनप्रीत की जनसभाएं व आमजन
कुलवंत हैप्पी / गुड ईवनिंग
'ए खाकनशीनों उठ बैठो, वो वक्‍त करीब आ पहुंचा है, जब तख्‍त उछाले जाएंगे, तब ताज गिराए जाएंगे' विश्व प्रसिद्ध शायर फैज अहमद फैज की कलम से निकली यह पंक्‍तियां, गत दिनों स्थानीय टीचर्ज होम के हाल में तब सुनाई दी, जब जागो पंजाब यात्रा के दौरान राज्य में इंकलाब लाने की बात कर रहे राज्य के पूर्व वित्‍त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल एक जन रैली को संबोधन कर रहे थे। फैज की कलम से निकली इस पंक्‍ति को कहते वक्‍त मनप्रीत को जद्दोजहद करना पड़ रहा था अपने थक व पक चुके गले से, जो पिछले कई महीनों से राज्य की जनता को इंकलाब लाने के लिए लामबंद करने हेतु आवाज बुलंद कर रहा है। गले के दर्द को भूल मनप्रीत इस रचना की एक अन्य पंक्‍ति 'अब टूट गिरेंगी जंजीरें, अब जैदांनों की खैर नहीं, जो दरिया झूम के उठे हैं, तिनकों से न टाले जाएंगे' को पढ़ते हुए पूरे इंकलाबी रंग में विलीन होने नजर आए। उनके संबोधन में उसकी अंर्तात्मा से निकलने वाली आवाज का अहसास मौजूद था, यही अहसास लोगों को इंकलाब लाने के लिए लामबंद करने में अहम रोल अदा करता है। इसमें भी कोई दो राय नहीं होनी चाहिए, जब जब किसी देश में जन अंदोलन हुआ, उसमें साहित्य ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। साहित्य के सहारे से ही लोगों की सोई हुई आत्मा को जगाया जा सकता है। पिछले दिनों मिस्त्र में जो हम सब ने देखा, वह भी सिर्फ एक विडियो क्‍लिप जरिए जारी किए एक भावनात्मक स्पीच के कारण ही हुआ। उस वीडियो में आसमा महफूज नामक लडक़ी ने भावनाओं से ओतपोत व अपनी अंर्तात्मा से एकजुटता बनाते हुए देश वासियों से एक अपील की, और उसी एक अपील ने पूरे मिस्त्र में जनाक्रञेश पैदा कर दिया एवं उस जनाक्रञेश के बाद, जो हुआ वह हम सब जानते हैं। लेकिन सवाल यह उठता है कि विदेशियों के खिलाफ लडऩे वाले इस देश के नागरिक क्‍या अपने देश के हुकमरानों खिलाफ लडऩे के लिए लामबंद होंगे? क्‍योंकि इस देश में रूम डिस्कशन की बहुत गंदी बीमारी है। यहां के लोग कमरों में बैठकर सरकारें बदल देते हैं। एक दूसरे से जूतम जूती हो जाते हैं, लेकिन जब एकजुट होकर सरकार के खिलाफ अंदोलन चलाने की बात आती है तो सडक़ों पर गिने चुने लोग नजर आते हैं, जिनको सरकार हलके से पुलिस लाठीचार्ज से दबा देती है। पिछले चार पांच महीनों से मनप्रीत सिंह बादल गली गली कूञ्चे कूञ्चे जाकर जन रैलियों को संबोधन कर रहे हैं एवं लोग उनके इंकलाब से लबालब भाषणों को बड़ी गम्‍भीरता से सुन रहे हैं, इसमें कोई दो राय नहीं, लेकिन वह लोग जब अपना प्रतिनिधि चुनने वोटिंग बूथ पर पहुंचेंगे, क्‍या तब मोहर मनप्रीत सिंह बादल के समर्थकों पर लगाएंगे। इस बात को लेकर मन में शंका है, क्‍योंकि भारत में रूम डिसक्‍शन में लोग चर्चा करते करते बहस पर उतर आते हैं, लेकिन जब रूञ्म से बाहर आते हैं तो सब खत्म हो चुका है। विरोध की आग राख बन चुकी होती है।

एसबीओपी की एथलेटिक्‍स मीट संपन्न
नरेश कलावटिया, बठिंडा। स्टेट बैंक ऑफ पटियाला की एथलेटिक्‍स मीट स्पोर्ट्स स्टेडियम में डीजीएम राजेश गुप्ता प्रधान व अशोक शर्मा सचिव व लाजपत राय गोयल उपाध्यक्ष की अध्यक्षता में हुई। इस समारोह का उद्घाटन गुब्‍बारे उड़ाकर किया गया। इस मौके एनके बत्रा, लक्ष्मणसिंह, एसएस बराड़, नरिंद्र बांसल तथा राकेश जैन आदि उपस्थित थे। श्री गुप्ता ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा कि खेल हमें अनुशासन में रहना सिखाते हैं एवं आपसी तालमेल को बढ़ाते हैं। इस मीट में महिलाओं व पुरुषों की 100, 200 व 400 मीटर की दौड़ प्रतियोगिता के अलावा पुरुषों का गोला थ्रो मुकाबला भी करवाया गया। इस मौके पर डीके धवन, रवि नरूला, राजिंद्र गर्ग, भूषण सिंगला आदि ने खिलाडिय़ों का हौसला बढ़ाया एवं समारोह के अंत में विजेता खिलाडिय़ों को पुरस्कृत किया गया। सौ मीटर की दौड़ पुरुष वर्ग 35, 35 से 45 व 45 में क्रमश : मनप्रीत सिंह प्रथम, रनबीर सिंह व अश्र्वनी सलूजा ने बाजी मारी जबकि दो सौ मीटर की दौड़ वर्ग 35, 35 से 45 व 45 में क्रमश : मनप्रीत सिंह, रणबीर सिंह बराड़, अश्‍वनी सलूजा ने पहला स्थान हासिल किया। इस तरह सौ मीटर की दौड़ महिला वर्ग 35, 35 से 45 व 45 में क्रञ्मश : शिखा, वंदना नरूला व अनु सचदेवा ने हम-मुकाबला प्रतिभागियों को पछाड़ते हुए प्रथम स्थान हासिल किया जबकि दो सौ मीटर की दौड़ वर्ग 35, 35 से 45 व 45 में क्रञ्मश : कदम्‍बरी, वंदना सचदेवा व अनु सचदेवा ने प्रथम स्थान हासिल किया। इसके अलावा चार सौ मीटर की दौड़ में मनप्रीत सिंह (वर्ग 35) व रणबीर सिंह (वर्ग 35-45) प्रथम जबकि महिला वर्ग में अनु सचदेवा ने बाजी मारी। इस मौके हुए शॉटपुट मुकाबले में कमल सचदेवा ने मारी बाजी।  

केंद्र से मिली ग्रांट का सही इस्तेमाल न करने का आरोप

बठिंडा। पंजाब प्रदेश धानक समाज की मीटिंग संजोयक हरद्वारी लाल सीलन की अध्यक्षता में आयोजित हुई, जिसमें अनुसूचित जातियों के हकों की रक्षा के लिए विचार विमर्श किया। इस मौके राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए श्री सीलन ने कहा कि केंद्रीय सरकार की ओर से अनुसूचित जातियों की भलाई हेतु छह करोड़ रुपए पंजाब सरकार को जारी किए गए थे, जिनको पंजाब सरकार ने अनुसूचित जातियों की भलाई हेतु खर्च नहीं किया, जिसके कारण दलित समाज बहुत बड़ा नुकसान हो रहा है। राज नहीं, सेवा का नारा बुलंद करने वाले बादल सरकार ऐसा कर दलित समाज के साथ खिलवाड़ कर रही है। मीटिंग ने उपस्थित सभी सदस्यों  ने केंद्र से मांग की कि इस मामले में सीबीआई से जांच करवाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को इस बात का खमियाजा भुगतना पड़ेगा। इस मौके पर मीटिंग में खेम चंद पचेरवाल, प्रभाती लाल खटक, चिरंजी लाल खनगवाल, एडवोकेञ्ट अशोक कुमार खनगवाल, विजय कुञ्मार बूमरा, प्रेम कुञ्मार खनगवाल, एडवोकेञ्ट रोहित कुञ्मार, गूगन राम नुगरिया, वेद प्रकाश निनानियां, हरी राम, राजिंद्र कुञ्मार मोरवाल आदि उपस्थित थे।  

रैली की सफलता के पीछे विकास कार्य
समर्थकों ने कहा, यह तो केवल ट्रेलर था

बठिंडा। स्थानीय जीत पैलेस में उप मुख्‍यमंत्री सुखबीर सिंह बादल व सांसद हरसिमरत कौर की जन रैली के सफल होने का शिअद शहरी हलका प्रभारी सरूञ्प चंद सिंगला द्वारा शहर में करवाए जा रहे विकास कार्यों को माना जा रहा है। सूत्रों का कहना कि श्री बादल व श्रीमति बादल की जन रैली में पहुंचे लोगों का उत्साह देखकर, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि अगर शिअद विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ती है तो किसी अन्य पार्टी के उम्‍मीदवार का बठिंडा सीट से जीतना मुश्किल है। विरोधी खेमे में रैली केञ् फलॉप शो होने की अटकलें लगाई जा रही थी, लेकिन हलका इंचार्ज व उनके समर्थकों की मेहनत ने विरोधी खेमे की अटकलों पर विराम लगाते हुए रैली को सुपरहिट शो में तब्‍दील कर दिया। उधर, हलका इंचार्ज के समर्थकों का कहना है कि यह तो केवल एक ट्रेलर था, जिस दिन सरूप चंद सिंगला कहें कि विरोधी खेमे को पूरी फिल्म तक दिखा सकते हैं।

रेलगाड़ी के नीचे आने से महिला घायल

बठिंडा। गुरूवार की देर शाम मुलतानियां पुल के समीप रेलवे लाइनों पर एक महिला की रेल के नीचे आने से बुरी तरह घायल होने की सूचना मिली है, जिसको सूचना मिलते ही सहारा जनसेवा ने उपचार हेतु स्थानीय सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया। संस्था ने जानकारी देते हुए कहा कि घायल रीना रानी की हादसे में दोनों टांगें बुरी तरह कुचली गई हैं एवं जीआरपी मामले की गहन से जांच कर रही है। घायल महिला का उपचार संस्था की ओर से करवाया जा रहा है।

सडक़ हादसे में बच्चे की मौत
बठिंडा। स्थानीय बीड़ तालाब बस्ती नम्‍बर छह के समीप आज सुबह हुए एक सडक़ हादसे में एक बच्चे की मौत होने की सूचना मिली है। थाना सदर पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। जानकारी के अनुसार सहारा जनसेवा को सुबह सूचना मिली कि बीड़ तालाब बस्ती नम्‍बर छह के समीप एक सडक़ हादसा हुआ है, जिसकी सूचना मिलते ही संस्था कार्यकर्ता घटनास्थल पर पहुंचे एवं घायल बच्चे को तुरंत अस्पताल पहुंचाया, लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले बच्चे की मौत हो गई। मृतक की शिनाख्‍त कालू पुत्र रमेश कुमार बस्ती नम्‍बर छह बीड़ तालाब हुई है।

व्यक्‍ति ने की आत्महत्या, मामला दर्ज
बठिंडा। रामपुरा पुलिस ने आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में पांच व्यक्‍तियों को नामजद किया है। जानकारी के अनुसार बेअंत कौर ने पुलिस को शिकायत की कि आरोपी राज सिंह, खुशकरन सिंह, गुरसेवक सिंह, जसविंदर सिंह, लक्‍खा ने कुछ दिन पूर्व उसके पति गुरबख्‍श सिंह के साथ मारपीट की थी, जिसके बाद वह खुद को लज्जित महसूस करने लगा एवं इस दौरान उसने जहरीली दवा खाकर आत्महत्या कर ली। उक्‍त झगड़ा गली में बने चबूतरे को लेकर हुआ था। पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की कारवाई शुरू कर दी है।

विदेश भेजने के नाम पर पांच लाख ठगे
बठिंडा। विदेश भेजने के नाम पर लाखों रुपए ऐंठने वाले एक परिवार के छह परिजनों के खिलाफ दियालपुरा पुलिस ने आपराधिक मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है। फिलहाल आरोपी पुलिस हिरासत से बाहर बताए जा रहे हैं। दियालपुरा पुलिस को आनंदरूप सिंह ने शिकायत दर्ज करवाई कि आरोपी बलदेव सिंह, उसकी पत्नि भुपिंद्र कौर, पुत्र लभदीप, पुत्री इकविंदर कौर व कर्मजीत कौर ने विदेश भेजने के नाम पर उससे पांच लाख रुपए लिए, लेकिन विदेश नहीं भेजा। जब उनसे पैसे वापिस मांगे तो उन्होंने देने से साफ इंकार कर दिया। पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है। 

No comments:

Post a Comment