Wednesday, March 2, 2011

2 march 2011 Daily Newspaper truthwaytimes

शिवदत्‍त गुप्ता के पक्ष में उतरे ट्रस्ट सदस्य
बठिंडा। ट्रस्ट मंदिर श्री रामचंद्र के प्रधान डॉक्‍टर शिवदत्‍त गुप्ता के खिलाफ पिछले दिनों साजिश रचकर करवाई गई झूठी एफआईआर का खिलाफ ट्रस्ट के जागरूक सदस्यों ने वृद्ध आश्रम में एकत्र होकर मीटिंग की एवं सर्व समिति से प्रस्ताव पारित किया कि हम सभी को डॉक्‍टर शिवदत्‍त गुप्ता पर पूरा भरोसा है तथा इस दुर्भाग्य पूर्ण घटना की हम पुरजोर निंदा करते हैं एवं प्रशासन से मांग करते हैं कि दा के खिलाफ दर्ज झूठा मामला वापिस लिया जाए एवं साजिशकर्ताओं के खिलाफ कड़ी कारवाई हो। उधर, गौशाला के प्रधान जीवा राम गोयल ने भी शिवदत्‍त के पक्ष में उतरे हुए कहा कि प्रशासन इस मामले में शीघ्र हस्ताक्षेप करे एवं झूठी दर्ज एफआईआर को रद्द करे। ट्रस्ट की ओर से जारी प्रेस नोट में ट्रस्ट के अन्य सदस्यों घोषणा की है कि अगर दा के खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द नहीं होती तो तत्काल प्रभाव से ट्रस्ट के सभी सदस्य अपने पद से अस्तीफा देंगे। जानकारी के अनुसार ट्रस्ट के जागरूक सदस्यों व अन्य समाज सेवी संस्थाओं आदि ने उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल, हलका प्रभारी सरूप चंद सिंगला, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अश्वनी शर्मा, भाजपा के विधायक दल के नेता मनोरंजन कालिया आदि से मिलकर शिवदा के खिलाफ दर्ज झूठी एफआईआर के बारे में बताया एवं उन्होंने तत्काल डीजीपी पंजाब को इस बाबत जांच कर एफआईआर रद्द करने की हिदायत की।

डॉ. तोगड़िया ख्स्त्र को पहुंच रहे हैं बठिंडा
बठिंडा। विश्‍व हिन्दु परिषद के राष्ट्रीय प्रमुख नेता डॉक्‍टर प्रवीण भाई तोगड़िया के आगमन संबंधी तैयारियों को लेकर विश्‍व हिन्दु परिषद बठिंडा की मीटिंग कैलाश गर्ग के निवास स्थान पर आयोजित हुई। इस मौके पर राजिंद्र बावा, रमनीक वालियां, रविंद्र सचदेवा, अनिल गर्ग, सुखपाल सिंह सरां, हरप्रीत सिंह ढिल्लों, रमेश कुमार, अश्वनी शुकला, गोपाल सैनी, अविनाश तिवारी, सोमनाथ मेहता, गणेश दा शर्मा, राजू बाबा, बजरंग दल के संदीप अग्रवाल, सशील शर्मा आदि उपस्थित हुए। बैठक में उपस्थित नेताओं ने जानकारी देते हुए बताया कि परिष्द के अंतर्राष्ट्रीय महासचिव डॉक्‍टर प्रवीण भाई तोगड़िया स्थानीय छाबड़ा पैलेस में ख्स्त्र मार्च को बाद दोपहर दो बजे हिन्दु संगठनों को संबोधित करेंगे।

नौजवान वेलफेयर सोसायटी की शिकायत पर हुई कारवाई
टरूथ-वे न्यूज, बठिंडा। जागृत व समाज को समर्पित युवाओं की संस्था नौजवान वेलफेयर सोसायटी की ओर से लोगों को मूर्ख बनाकर भीख के नाम पर मोटा पैसा ऐंठने वाले गिरोह के खिलाफ चलाई मुहिम उस समय रंग लाई, जब संस्था की शिकायत पर एक्‍शन लेते हुए नेशनल कमिशन फॉर प्रोटेशन ऑफ चाइल्ड्स राइट्स ने मामला दर्ज करते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है। ज्ञात रहे है कि नौजवान वेलफेयर सोसायटी समाज सेवा के कार्य करने के अलावा समाज में फैली बुराईयों को खत्म करने के लिए भी पिछले लम्बे समय से कानूनी तरीके से लड़ाई लड़ रही है। इस संस्था ने शहर में फैली बुराईयों को खत्म करने के लिए आरटीआई का सहारा लिया, जो बेहद कारगर साबित हो रहा है। गौरतलब है कि शहर में कुछ प्रवासी महिलाओं द्वारा छोटे बच्चों को गोद में उठाकर भीख मांगने का कार्य आजकल जोर शोर से चल रहा है। हिन्दुस्तान में भीख मांगना कोई नई बात नहीं, लेकिन मासूम बच्चों के कानों में मुर्गे का मास तथा आतडिय़ां डाल कर उनके इलाज के लिए लोगों भावुक कर पैसा ऐंठना तो गैर कानूनी व भीख मंगाने का नायब तरीका है। इस गोरखधंधे का भाड़ा फोड़ करने के बाद संस्था के चेयरमैन सोनू माहेश्वरी ने इसकी शिकायत नेश्नल कमीशन फॉर प्रोटेशन ऑफ चाईलड्स राइट्स, नई दिल्ली को की, जिसने मामले को देखने समझने के बाद मामला दर्ज करते हुए कारवाई शुरू कर दी। इस संबंधित एक पत्र उन्होंने संस्था को भी भेजा, जिसमें जांच शुरू होने की पुष्टी की गई है।

अनाधिकृत सिग्रेट डीलर लगा रहे हैं सरकार को चूना
सिग्रेट के दीवानों की आंख में धूल झोंकते हैं विक्रेता

बठिंडा। बढ़ती महंगाई को तो कंट्रोल नहीं किया जा सकता, लेकिन इस महंगाई के जमाने में आमदनी बढ़ाने के लिए शॉर्ट कट तरीकों को तो अजमाया ही जा सकता है। खर्च व आमदनी में संतुलन बनाने के लिए स्थानीय अनाधिकृत सिग्रेट विक्रेता बाहरी राज्‍यों से चोर रास्ते से आए माल को महंगे दामों पर बेच रहे हैं, जिससे सरकार को लाखों रुपए का चूना तो लग ही रहा है, वहीं सिग्रेट दीवानों के साथ भी सिग्रेट विक्रेता धोखा कर रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शहर में कुछ लोग रेल के रास्ते पश्चिमी बंगाल से सस्ते मूल्य पर एक बड़ी सिग्रेट कंपनी का मॉल खरीदकर ला रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि रेल के रास्ते पश्चिमी बंगाल से माल लेकर आने वाले अनाधिकृत सिग्रेट डिस्टीब्‍यूटर सरकार को सेल टेस अदा भी नहीं करते, जबकि कानूनी तौर पर सिग्रेट डिस्ट्रीब्‍यूटर को 22फीसदी सेल टैक्‍स अदा करना होता है। ऐसे में सरकार को लाखों रुपए का चूना प्रतिमाह लग रहा है, लेकिन संबंधित विभाग की ओर से इन लोगों के खिलाफ कोई भी कारवाई नहीं की जा रही। हालांकि यह व्यापारी शहर के मुख्य बाजारों में ही बैठे हुए हैं। अगर सूत्रों की मानें तो प्रत्येक माह लाखों रुपए का माल रेल गाड़ियों के जरिए पश्चिमी बंगाल से पंजाब में पहुंचता है। सूत्रों का कहना है कि एक बड़ी कंपनी की सिग्रेट डिबी जिसकी कीमत पंजाब के लिए 25 रुपए तय की गई है जबकि पश्चिमी बंगाल से आने वाली सिग्रेट की डिबी कीमत 20 रुपए है। पश्चिमी बंगाल से माल लाने वाले व्यापारी डिबी को 24 रुपए के हिसाब से आगे बेचते हैं, जबकि उसकी कंपनी के अधिकारिक डीलर पंजाब में बेचशुदा डिबी को 26 रुपए के हिसाब से दुकानदारों को देते हैं और दुकानदार आगे डिबी को तो प्रिंट रव्ट से दो रुपए बढ़ाकर बेचते हैं जबकि खुली हुई डिबी तीस रुपए के हिसाब से बिकती है, प्रत्येक सिग्रेट तीन रुपए। मगर यहां सिग्रेट विक्रेता ग्राहक की आंखों में धूल झोंककर उनको सस्ती वाली सिग्रेट महंगे दामों में बेच रहे हैं। उधर, संबंधित कंपनी के अधिकारिक पदाधिकारियों ने संपर्क करने पर बताया कि इस बाबत कंपनी को शिकायत कर दी गई है। जबकि सूत्रों का कहना है कि कंपनी अनाधिकृत व्यापारियों पर कारवाई इसलिए नहीं करती, योंकि माल तो उसकी कंपनी का बिक रहा है, चाहे ही वो किसी राज्‍य से लाकर बेच रहे हैं। मगर व्यापारियों की इस गतिविधि से सरकार को मोटा चूना लग रहा है।

No comments:

Post a Comment