Saturday, March 5, 2011

5 march 2011 D E N T

पीरखाने में शव दफनाने को लेकर पैदा हुआ तैनाव
प्रशासन ने पीरखाने में प्रवेश करने से रोका मुस्लिम समुदाय को
बठिंडा। स्थानीय मकबरा मीरा साहिब पीरखाना के आस पास का क्षेत्र एक बार फिर से उस समय पुलिस छावनी में तदील हो गया, जब दशकों से पीरखाना साहिब की देख भाल करने वाले स्वर्गीय निक्का शेख की जन्नातनशीं हुई पत्नि को उनके परिजन व अन्य मुस्लिम नेता यहां सुपुर्द ए खाक करने आए। खबर लिखे जाने तक जन्नातशीं हो चुकी निक्का शेख की पत्नि का पार्थिव शरीर पीरखाना साहिब के मुख्य गेट पर पड़ा हुआ था। इस मामले में आल इंडिया पीरखाना कमेटी के अध्यक्ष गुरदास गर्ग व कमेटी पदाधिकारी कृष्ण गर्ग ने कहा कि जब पीरखाने का विकास नहीं हुआ था, तब यहां कुछ शव दफनाए गए, लेकिन जब से पीरखाना के कजे में यह जगह आई है, तब से यहां पर कोई शव नहीं दफनाया गया। उधर, मिनॉरिटी कमिश्न पंजाब के सदस्य अदुल शुकूर मांगट का कहना है कि इस मामले में अगर दोनों गुटों की सहमति नहीं बनती तो कोर्ट के नियमों का उल्लंघन न करते हुए शव को कबरिस्तान में दफनाया जाए। गौरतलब है कि जैसे ही मुस्लिम नेताओं की अगुवाई में पप्पू शेख व उनके अन्य परिजन स्थानीय पीरखाना साहिब पहुंचे तो पुलिस व जिला प्रशासन ने पीरखाना साहिब को पूरी तरह सुरक्षा घेरव् में लेते हुए उनको बाहर ही रोक दिया। इसके बाद मुस्लिम नेता व अन्य लोग भड़क उठे। उन्होंने जिला प्रशासन व हिन्दु समुदाय के खिलाफ डटकर अपना विरोध जाहिर किया। इस मामले की भनक लगते ही मिनॉरिटी कमिश्नर ऑफ पंजाब के सदस्य अदुल सुकूर मांगट पहुंचे, जिन्होंने ड्यूटी अधिकारी तहसीलदार अवतार सिंह मक्कड़ से बातचीत की।
आदेश में पंजाब स्टेट कार्डियॉलॉजी समिट 2011 कल
बठिंडा। स्थानीय भुच्चो रोड़ स्थित आदेश इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च के ऑडिटोरियम में रविवार को जिंदल हार्ट इंस्टीट्यूट एंड टैस्ट बेबी सेंटर आईएमए व आदेश ग्रुप की ओर से पंजाब स्टेट कार्डियॉलॉजी समिट  का 2011  आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन के लिए इंस्टीट्यूट को पंजाब भर के डॉक्टर   के अलावा राजस्थान व हरियाणा के डॉक्टर   की ओर से अच्छा समर्थन मिला है। इस बाबत जानकारी देते हुए प्रबंधकी कमेटी के सचिव डॉक्टर  वितुल के गुप्ता ने बताया कि उनको इस समिट के लिए अब तक 800 के करीब डॉक्टर  , पीजी स्टूडेंट्स व एमबीबीएस स्टूडेंट्स की रजिस्ट्रेशन हुई है, जो अपने आप में एक अद्भुत आंकड़ा है। इस समिट को संबोधित करने के लिए फॉर्टिस एसकोर्टस न्यू दिल्ली से डॉक्टर  टीएस कलेर, हीरो डीएमसी हार्ट इंस्टीट्यूट लुधियाना से डॉक्टर  जीएस वंडर, मेदांता मेडिसिटी गुडगांव से डॉक्टर  बलबीर सिंह फोर्टिस एसकोर्टस मोहाली से डॉक्टर  एचके बाली, हीरो डीएमसी हार्ट इंस्टीट्यूट लुधियाना से बिशव मोहन, फॉर्टिस एसकोर्टस अमृतसर से डॉक्टर  अरुण चोपड़ा, जिंदल हार्ट इंस्टीट्यूट एंड टैस्ट बेबी सेंटर के डॉक्टर  राजेश जिंदल, डॉक्‍टर रजनी जिंदल आदि डॉक्टर  पहुंच रहे हैं। इस समिट का उद्घाटन पंजाब मेडिकल कौंसिल के प्रधान डॉक्टर  मनमोहन सिंह व आदेश गु्रप के चेयरमैन एचएस गिल करेगे एवं उनके साथ राजस्थान मेडिकल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉक्टर  राजा बाबू, बीएफयूएचएस के पूर्व वाइस चांसलर प्रोफेसर रविंदर सिंह, प्रोफेसर किरणजीत कौर, सिविल अस्पताल बठिंडा के सिविल सर्जन डॉक्टर  आईडी गोयल विशेष् तौर पर उपस्थित होंगे।
डॉक्‍टर दीपक रिश्वत के आरोपों से बरी
बठिंडा। स्थानीय एक अदालत ने रिश्वत लेने के एक मामले में सुनवाई करते हुए आरोपी डॉक्‍टर  दीपक कुमार को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया। ज्ञात रहे डॉक्‍टर दीपक गुप्ता पर कालियांवाली के रहने वाले मंगा राम ने रिश्वत लेने का आरोप लगाया था। तब डॉक्‍टर दीपक गुप्ता स्थानीय सिविल अस्पताल में बतौर सर्जन तैनात थे। 15 मई 2006 को मंगा राम की शिकायत पर विजिलेंस की टीम ने छापा मारी कर डॉक्‍टर दीपक को रंगे हाथों रिश्र्वत लेते हुए गिरफ्तार करने दावा किया गया था, लेकिन आज एसके अग्रवाल की अदालत ने पर्याप्त सबूत न होने के कारण डॉक्‍टर दीपक को बाइज्जत बरी कर दिया। डॉक्‍टर दीपक व उनके वकील करमिंद्र सिंह ने अदालत के फैसले को स्वीकार करते हुए कहा कि आखिर जीत तो सत्य की होनी थी, क्‍योंकि सत्य विचलित हो सकता है, पराजित नहीं। उन्होंने कहा कि उनको देश के कानून पर पूरा भरोसा था एवं यह भरोसा अदालत ने फैसला सुनाकर और मजबूत कर दिया। गौर तलब है कि तत्काल डॉक्‍टर दीपक ने मंगा राम की गम्भीर हालत में सिविल अस्पताल पहुंची पत्नी का ऑपरेशन किया था, जिसकी बच्चेदानी में रसौली थी।
------
छात्रों ने किया वर्धमान पोलीटैक्स का भ्रमण
बठिंडा। खालसा दीवान ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स बठिंडा की आग्रणी संस्था महाराजा रणजीत सिंह खालसा टेनीकल कॉलेज बठिंडा की ओर से वर्धमान पॉलिटिस लिमिटेड में छात्रों का एक दिवसीय टूर लगवाया गया। इस टूर में कॉलेज के बीसीए, बीबीईएमएससी आईटी व पीजीडीसीए के छात्रों ने भाग लिया। इस टूर संबंधी जानकारी देते हुए कॉलेज के डायरक्‍टर  प्रिंसिपल इंजीनियर प्रदीप मित्‍तल ने बताया कि इस तरह के टूर लेकर जाने का मकसद छात्रों को समय का हम-जोली बनाना है। उन्होंने कहा कि आधुनिक समय में कॉलेज तकनीकी व मैनेजमेंट के छात्रों की द्गयादातर किताबी पढ़ाई ही करवा रहे हैं, जबकि यह विषय पूरी तरह प्रेटीकल हैं। उन्होंने बताया कि इस टूर का मुख्य मकसद इंडस्ट्री में हो रहे काम व प्रबंधन से अवगत करवाना था। वर्धमान पोलीटैक्स लिमिटेड के मुख्य प्रबंधक राजिंद्र पाल व संजय अग्रवाल के नेतृत्व में छात्रों को हर विभाग की जानकारी दी गई। इस टूर में छात्रों रूई से तैयार होने वाले उत्पादों को बारीकी से जानकारी दी गई। एक सवाल के जवाब में श्री अग्रवाल ने बताया कि रूई से तैयार होने वाली 90 फीसदी से अधिक वस्तुओं की सप्लाई विदेश में की जाती है। इंस्टीट्यूशन्स के प्रमुख राजिंद्र सिंह सिद्धू ने कॉलेज के डॉयरक्‍टर व प्रिंसीपल प्रदीप मित्‍तल द्वारा उठाए इस कदम की सराहना करते हुए कहा कि ऐसे कदम शैक्षणिक संस्थाओं को उठाने चाहिए ताकि छात्रों के ज्ञान में वृद्धि हो सके। टूर के इंचार्ज डीनएकेडिमस पवन कुमार एचओडी, जसप्रीत कौर, लेक्चरार सरबजीत सिंह शामिल थे।

शहरवासियों की पहली पसंद पम्मीज नेशनल बेकर्स
बठिंडा। जैसे जैसे शहर में आबादी बढ़ती है, वैसे वैसे कारोबार भी बढ़ते हैं, और कारोबार बढ़ने से उद्यमियों में प्रतिस्पर्धा भी बढ़ती है, लेकिन प्रतिस्पर्धा में वही टिकते हैं, जो अपने प्रोडेटों की गुणवाण को कायम रखने के साथ साथ लोगों का विश्र्वास भी जीत लेते हैं। ऐसा ही एक व्यापारिक संस्थान है पम्मीज नेशनल बेकर्स, जिसने बठिंडा वासियों के दिलों में ही नहीं, बल्कि बठिंडा शहर से लगते अन्य क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को भी अपने उत्पादों का दीवाना बना दिया है। इस संस्थान की स्थापना फिरोजपुर में 1940 में सोहन लाल पुरी की ओर से की गई, लेकिन बाद में 1954 को पुरी परिवार इस बिजनस को लेकर बठिंडा शहर में सेटल हो गया। भले ही आज से दशकों पहले यह संस्थान बहुत छोटा था, लेकिन आज अपने विश्र्वासनीय व गुणवाण भरपूर उत्पादों की बदौलत शहर की आग्रणी बेकरियों में शामिल हो गया। आज पूरा शहर स्थानीय धोबी बाजार स्थित पम्मीज नेशनल बेकर्स के केकों, बिस्कुटों व अन्य फास्ट फूड का दीवाना है।

2 comments:

  1. सम्मानित ब्लोगर बन्धु, ब्लोगिंग के क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए आपको बहुत-बहुत शुभकामनायें... "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" हिंदी ब्लोगरो में प्रेम, भाईचारा, आपसी सौहार्द, के साथ हिंदी ब्लोगिंग को बढ़ावा देने के लिए कृतसंकल्पित है.....यह ब्लॉग विश्व के हर कोने में रहने वाले भारतियों का स्वागत करता है. आपसे अनुरोध है की आप इस "मंच" के "अनुसरणकर्ता" {followers} बनकर योगदान करें. मौजूदा समय में यह मंच लेखन प्रतियोगिता का आयोजन भी किया है. जिसमे आप भी भाग ले सकते है.
    आपके शुभ आगमन का हम बेसब्री से इंतजार करेंगे..साथ ही अपने भारतीय साथियों को भी लायें .. धन्यवाद ..........
    "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" www.upkhabar.in/

    ReplyDelete
  2. शुभागमन...!
    हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है, कामना है कि आप इस क्षेत्र में सर्वोच्च बुलन्दियों तक पहुंचें । अपने प्रयासों में सफलता हासिल करने के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढती जा सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ आप इसके दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन अवश्य करें और इसे फालो भी करें । आपको निश्चित रुप से अच्छे परिणाम मिलेंगे । शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com/2011/02/blog-post_18.html

    ReplyDelete